Explained Featured International

वैश्विक कोविड टीकाकरण का नायक बना भारत, दुनिया कर रही भारत के मिशन वैक्सीन मैत्री (टीका मैत्री) की प्रशंसा

पूरा विश्व कोरोना वायरस महामारी का सामना कर रहा है. 2019 में आए इस वायरस से सभी देशों को आर्थिक, सामाजिक हर तरह से बेहद नुकसान झेलना पड़ा. वहीं भारत ने कोरोना के खिलाफ इस जंग खुद भी लड़ाई लड़ते हुए पड़ोसियों और मित्र देशों को कोविड-19 वैक्सीन की लाखों खुराक देकर उनकी मदद कर रहा है.

भारत में कोरोना वायरस महामारी के खिलाफ लड़ाई के लिए दुनिया का सबसे बड़ा टीकाकरण कार्यक्रम शुरू हो चुका है. वहीं अब हम दूसरे देशों की मदद के लिए, वहां भी वैक्सीन मुहैया कराने का काम कर रहे हैं. दरअसल, एक मददगार और ज़िम्मेदार देश के तौर पर भारत ने हमेशा अन्य देशों की सहायता की है. वहीं दूसरी ओर दुनिया का सबसे बड़े टीकाकरण अभियान भारत में शुरू हो चुका है, जिसके तहत 130 करोड़ लोगों को टीके लगाने का प्रयास है.

भारत का वैक्सीन (टीका) मैत्री का जिम्मेदार और सराहनीय प्रयास

कोरोना महामारी से उबारने के लिए भारत व्यापक स्तर पर ‘टीका मैत्री’ अभियान चला रहा है और भारत ने पड़ोसी दोशों के साथ अन्य देशों को कोरोना टीका उपलब्ध कराने के लिए ही मिशन वैक्सीन मैत्री (टीका मैत्री) की शुरूआत की है. जनवरी से अब तक भारत ने कई पड़ोसी और मित्र देशों को भेंट के तहत लाखों कोरोना वायरस के टीके उपलब्ध कराए हैं. दुनिया के देशों को भारत द्वारा अनुदान सहायता और वाणिज्यिक आपूर्ति के तहत टीका उपलब्ध कराने के अभियान को ‘‘टीका मैत्री’’ का नाम दिया गया है. इसे टीका कूटनीति भी कहा जा रहा है.

विकसित देशों की भी मदद कर रहा भारत

किसी जमाने में दूसरों से मदद मांगने वाला भारत अब दुनिया भर के लोगों का जीवनदाता बना हुआ है. विकासशील के साथ ही विकसित देश भी उससे कोरोना वैक्सीन देने के लिए आग्रह कर रहे हैं. कुछ दिन पहले ही हिचकिचाहट के बाद कनाडा ने भी भारत से कोरोना वैक्सीन देने का आग्रह किया, जिसे भारत ने पूरा कर दिया. कनाडा और लेसोथो को भारत निर्मित कोरोना वैक्सीन की खेप पहुंचने के बाद कनाडा के प्रधानमंत्री ने पाएम मोदी को धन्यवाद भी दिया था.

कनाडा ने दिया पीएम मोदी को धन्यवाद

भारत में सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया कंपनी द्वारा निर्मित कोविशील्ड वैक्सीन की पांच लाख डोज वाली पहली खेप हाल ही में कनाडा पहुंचीं। कनाडा ने इसके लिए भारत का आभार प्रकट किया। ग्रेटर टोरंटो में बिलबोर्ड लगाए गए, जिनपर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तस्वीर है और उन्हें धन्यवाद कहा गया।

कनाडा में लगे इन बिलबोर्ड पर प्रधानमंत्री मोदी की तस्वीर के साथ लिखा है- कनाडा को कोविड वैक्सीन देने के लिए धन्यवाद भारत और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी। भारत की ओर से कनाडा को वैक्सीन की 20 लाख डोज दी जा रही हैं। इसकी कनाडा की सरकार ने भी खुले दिन से प्रशंसा की है।

कई देशों को वैक्सीन भेजा गया

टीका मैत्री के तहत भूटान को अब तक 1.5 लाख, मालदीव, मॉरीशस और बहरीन को 1-1 लाख, बांग्लादेश को 20 लाख, म्यांमार को 15 लाख, सेशल्स को 50,000 और श्रीलंका को 5 लाख वैक्सीन निशुल्क मुहैया करवाई जा चुकी हैं. वहीं कई अन्य देशों को रियायती दरों पर कोरोना वैक्सीन की आपूर्ति की गई है.

भारत ने कोरोना महामारी के खिलाफ लड़ाई में सहयोग करते हुए ग्वाटेमाला, केन्या, रवांडा, सेनेगल और डेमोक्रेटिक रिपब्लिक कांगो को कोरोना वैक्सीन की खेप भेजी थी. इससे पहले नाइजीरिया और अंगोला को भी भारत अपनी कोरोना वैक्सीन भेज चुका है.

वेस्टइंडीज के क्रिकेटर भी हुए पीएम मोदी के मुरीद

वहीं कैरीकॉम देशों से की गई अपनी प्रतिबद्धता को पूरा करते हुए एंटीगुआ, बारबुडा, सेंट किट्स, नेविस, सेंट विंसेन्ट, ग्रेनेडाइन्स और सूरीनाम को भी भारत कोरोना वैक्सीन दे चुका है.

भारत की इस दरियादिली पर वेस्टइंडीज के पूर्व कप्तान विवियन रिचर्ड्स रिची रिचर्डसन, जिमी एडम्स, जैसे खिलाड़ियों ने भारत सरकार और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तारीफ की।

“मैं एंटीगा और बारबाडोस के लोगों की तरफ से भारत सरकार, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भारत की जनता का शुक्रिया करना चाहूंगा कि उन्होंने हमें कोरोना वैक्सीन की खेप पहुंचायी। इससे भविष्य में हमारे रिश्ते और मजबूत होंगे।”- सर विवियन रिचर्ड्स, पूर्व क्रिकेटर वेस्टइंडीज

मैं एंटीगा और बारबाडोस की ओर से भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का आभार जताना चाहता हूं कि उन्होंने भारत में बनी कोरोना वैक्सीन की डोज हमें भेजी। हम आपके आभारी हैं, बहुत शुक्रिया।”- पूर्व कप्तान रिची रिचर्डसन, वेस्टइंडीज

नेपाल दे रहा दिल से धन्यवाद

भारत ने नेपाल को करीब एक मिलियन कोविड-19 वैक्सीन की खुराक़ की मदद करके वहां के लोगों का दिल जीत लिया. कोविड वैक्सीन की ये खुराक़ वहां के ज़रूरतमंद लोगों को भारत सरकार द्वारा नि:शुल्क तौर पर मुहैया करायी गर्इ है.

संयुक्त राष्ट्र ने की भारत की प्रशंसा

संयुक्त राष्ट्र प्रमुख एंतोनियो गुतारेस ने कोरोना वायरस संक्रमण से निपटने के लिए कई देशों को टीके मुहैया कराने के भारत के कदम की सराहना करते हुए कहा कि भारत की टीका निर्माण क्षमता आज दुनिया की सर्वश्रेष्ठ पूंजियों में से एक है. गुतारेस ने उम्मीद जताई कि भारत के पास वे सभी आवश्यक साधन उपलब्ध होंगे, जो वैश्विक टीकाकरण मुहिम को सफल बनाने में अहम भूमिका निभाएंगे.

पाकिस्तान को भी वैक्सीन की मदद करेगा भारत

पाकिस्तान को जल्द ही भारत में निर्मित कोरोना वैक्सीन की 1.6 करोड़ डोज मुफ्त में मिलेगी. पुणे स्थित सीरम इंस्टीट्यूट द्वारा उत्पादित ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका की कोविशील्ड गावी (वैक्सीन और टीकाकरण के लिए वैश्विक गठबंधन) के जरिये पाकिस्तान पहुंचेगी.

वैश्विक टीकाकरण का नायक भारत

कोरोना वायरस से लड़ने के लिए भारत में बनी कोरोना वैक्सीन की दुनियाभर में मांग बढ़ती जा रही है और भारत अबतक 50 से ज्यादा देशों को वैक्सीन की सप्लाई कर चुका है. भारत सिर्फ दुनिया के दूसरे देशों को ही वैक्सीन नहीं भेज रहा बल्कि घरेलू स्तर पर भी तेजी से टीकाकरण हो रहा है. देश में अबतक लगभग 3 करोड़ से ज्यादा लोगों को वैक्सीन लग चुकी है.

पीएम मोदी ने बहुत पहले कहा था जान भी जहान भी और भारत उसी विचार पर चल भी रहा है। खुद भी बचते हुए दुनिया को भी कोरोना से निजात दिलाना है।

Share