#Viral Fact Check Featured

क्या ‘जय श्री राम’ की आड़ में देश के खिलाफ रचा जा रहा है कोई राजनीतिक षड़यंत्र

lynching incidents fake news

पिछले कुछ दिनों से सांप्रदायिक झगड़ों की खबरें चर्चा का विषय बनी हुई है। देश के अलग अलग जगहों से किसी को मार देने की या किसी के साथ दुर्व्यवहार करने की काफी खबरें सामने आ रही है। इनमें से बहुत घटनाओं में जय श्री राम के नारे को लेकर भी काफी दुष्प्रचार किया जा रहा है।

हमने पिछले लगभग दो महीने की ऐसी 5 बड़ी घटनाओं को एक साथ समझने का प्रयास किया। इस रिपोर्ट में हमने हर घटना के बारे में पहले क्या खबर आयी और पड़ताल होने के बाद क्या मालूम चला, दोनों को पाठकों के सामने रखने की कोशिश की है।

उन्नाव की घटना

कानपुर की घटना

गुरुग्राम की घटना

करीमनगर की घटना

बेगूसराय की घटना

इन खबरों से साफ जाहिर होता है कि भीड़ द्वारा हिंसा या सांप्रदायिक हिंसा की कुछ झूठी घटनाओं को प्रचारित कर अराजक तत्व देश का माहौल खराब करने का षड्यंत्र रच रहे हैं, इसलिए ऐसी भ्रामक और झूठी खबरों को देशहित में नजरअंदाज करना चाहिए।

हम अपने एक लेख में पहले बता चुके हैं कि कैसे पिछले कुछ वर्षों में भारत सरकार के खिलाफ नकारात्मक अभियान चलाये जा रहे है। 23 मई 2019 को नतीजे आने के बाद देश में फिर से सांप्रदायिक हिंसा की खबरों की बाढ़ सी आ गई है। ऐसा लगता है कि विपक्ष फिर से मुद्दों के अभाव में सरकार के खिलाफ हेट क्राइम का सहारा ले रहा है, जिसकी बानगी हैं ये सांप्रदायिक हिंसा भरी खबरें  जिनको भुनाने का हर संभव  प्रयास किया जा रहा है। दुर्भाग्य ये है कि क्या विपक्ष के नेता या समाज का तथाकथित प्रबुद्ध वर्ग इन खबरों के पीछे का सच भी जानता है। क्या वे जानते है कि ये खबरें पड़ताल के बाद झूठी निकल जाती हैं।

Share